Breaking News

Saharsa Life TV : बड़गांव महादेव मंदिर में लोगों ने की श्रद्धापूर्वक पूजा




Image may contain: one or more people, people sitting and child
बड़गांव स्थित ब्रजेन्द्र महादेव स्थान में पूजा करते हुए श्रद्धालु 
सावन माह के प्रथम सोमवारी को बड़गांव स्थित ब्रजेन्द्र महादेव स्थान  सहित अन्य शिवालयों में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ी। पहली सोमवारी को बड़गांव स्थित ब्रजेन्द्र महादेव, चैनपुर स्थित नीलकंठ स्थान में सेकड़ों कांवरिया ने मुंगेर गंगा घाट से पैदल गंगाजल तथा हजारों श्रद्धालुओं ने यहां आकर पूजा अर्चना की। बनगांव स्थित लक्षमेश्वरनाथ, बाबा बैद्यनाथ, पड़री स्थित लालेश्वर नाथ, पारसमणि नाथ, रहुआमनी स्थित नर्मदेश्वरनाथ, दिघीया स्थित नर्मदेश्वर स्थान में सुबह से ही श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ने लगा। सावन माह को लेकर क्षेत्र में भक्तिमय माहौल ब्याप्त है।

पहली सोमवारी पर शिवालयों में जुटी रही भीड़:महिषी। 
सावन के प्रथम सोमवारी पर प्रखण्ड के विभिन्न शिवालयों एवं अन्य धर्मस्थलियों पर पूजा करने के लिए श्रद्धालु भक्तों की भीड़ लगी रही। सोमवार को नाकुच नकुचेश्वर महादेव मंदिर, महषि सहित उग्रतारा मन्दिर, पुनाच के बाबा बचेश्वर नाथ मंदिर एवं महपुरा स्थित बाबा कारू मन्दिर में मुंगेर के छर्रापट्टी से पैदल व मोटरसाइकिल से गंगाजल लेकर आये कांवरिया बमों ने बाबा भोलेनाथ को जल अर्पित किया। मंदिर के पुजारी, साधक एवं श्रद्धालुओं का कहना है कि नकुचेश्वर महादेव की भक्ति से लोगों को शक्ति मिलती रही है।
इसका सबसे बड़ा उदाहरण संत बाबा कारु हैं जो अपनी साधना के बल पर आज देवता बन मानव जाति से लेकर पशु तक के सभी रोग एवं व्याधि को दूर करने में स्वत: प्रमाण माने जा रहे हैं। मुंगेर घाट से जलभर कर आये विभिन्न गांव के कांवरिया ने जलाभिषेक करते हुए कहा कि बाबा की कृपा से दुरुह रास्ता को पार करते लोग मंदिर तक पहुंच पाते है।
बड़गांव में भी पिछले 9 साल से हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते है !
सोनवर्षा प्रखंड के बड़गांव गांव में स्थित ब्रजेन्द्र नाथ महादेव स्थल में श्रद्धालुओं की भीड़ जुटी रहती है ग्रामीणों ने बताया  की यह यात्रा गांव के युवाओं द्वारा 2010 में प्रांरभ हुई थी ,और पहली बार गांव के लगभग १० लोग मिलकर यह यात्रा को प्रारम्भ किया था लेकिन अब कावरियों की भीड़ जुटी रहती है ,गांव के कावरिया संघ द्वारा सुन्दर व्यवस्था यात्रा के दौरान तथा मंदिर प्रांगण में. भी किया गया है 

No comments