Breaking News

मुजफ्फरनगर रेल हादसाः ट्रैक पर चल रहा था मरम्मत का काम, ड्राइवर ने लगाया इमरजेंसी ब्रेक

यूपी के मुजफ्फरनगर में रेल हादसा मुजफ्फरनगर रेल हादसे में बड़ी लापरवाही का मामला सामने आ रहा है. इंटेलिजेंस सूत्रों के मुताबिक खतौली के पास जहां ट्रेन हादसा हुआ है. वहां ट्रैक रिपेयर का काम चल रहा था और ट्रेन अपनी पूरी स्पीड़ में थी. इस दौरान ड्राइवर ने इमरजेंसी ब्रेक लगाया और ट्रेन पटरी से उतर गई. ऐसे में सवाल ये है कि अगर ट्रैक मरम्मत का काम चल रहा था, तो ट्रेन उक्त ट्रैक पर कैसे आई.
रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने घटना पर दुख जताते हुए मामले की जांच के आदेश दिए हैं. प्रभु ने कहा कि घटना के लिए जिम्मेदार लोगों को बख्शा नहीं जाएगा.
बता दें कि रेल हादसे में अब तक 20 लोगों की मौत हुई है, जबकि 70 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं. उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मारे गए लोगों के परिजनों के लिए 5 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है.
दूसरी ओर रेल मंत्रालय ने मारे गए लोगों के लिए 3.5 लाख और गंभीर रूप से घायल लोगों के लिए 50 हजार के मुआवजे का ऐलान किया है.
बता दें कि पुरी से हरिद्वार जा रही कलिंग उत्कल एक्सप्रेस ट्रेन मुजफ्फरनगर के खतौली रेलवे स्टेशन के पास पटरी से उतर गई. ट्रेन के करीब दर्जन भर डिब्बे पटरी से उतरकर अगल-बगल के घरों और एक स्कूल में घुस गए. हादसा शनिवार की शाम 5 बजकर 46 मिनट पर हुआ.
पटरी से उतरे डिब्बों में यात्री फंसे हुए हैं. जिन्हें निकालने के लिए डिब्बा काटने के लिए क्रेन की मदद ली जा रही है. घटना के बाद मेरठ, अंबाला, सहारनपुर ट्रैक को बंद कर दिया गया है. रेलवे और स्थानीय प्रशासन ने हादसे में रेस्क्यू और राहत कार्यों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी शुरू किए हैं. घायलों को स्थानीय चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है. फिलहाल बचाव एवं राहत कार्य जारी है. हादसे के बाद ट्रेन यातायात बुरी तरह प्रभावित हुआ है. दर्जनों गाड़ियां बीच रास्तों में रोक दी गयी हैं.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खतौली रेल हादसे पर दुख जताते हुए कहा कि रेल मंत्रालय स्थिति पर लगातार नजर रखे हुए है. यूपी सरकार और रेल मंत्रालय सभी जरूरी मदद मुहैया कराने में जुटे हैं. उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की.
खतौली के लिए रवाना हुई NDRF टीम
यूपी के खतौली के पास रेल हादसे की सूचना मिलते ही 44 राहत दल सदस्यों और 2 खोजी कुत्तों के साथ एनडीआरएफ की पहली टीम मुजफ्फरनगर के लिए रवाना हो गई है. गाजियाबाद से एनडीआरएफ की 3 टीमें भेजी गई हैं.
पीएसी की 9 कंपनियों को घटनास्थल के लिए भेजा
पीएसी के आईजी लखनऊ ने 9 कंपनियों को घटनास्थल पर पहुंचने के लिए कहा है. ताकी राहत और बचाव कार्यों को तेजी से पूरा किया जा सके.
यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर के आदेश पर यूपी एटीएस की टीम डीएसपी अनूप सिंह के नेतृत्व में दुर्घटनास्थल के लिए रवाना हो गई है. एटीएस टीम हादसे के लिए जिम्मेदार कारणों की जांच करेगी. बता दें कि यह एक मानक प्रक्रिया है, लेकिन बिहार के रेलवे ट्रैक में आईईडी मिलने के बाद रेलवे खासा एहतियात बरतती है.