Breaking News

डोकलाम तनाव: चीन की धमकी से जेटली के जवाब तक जानिए डोकलाम विवाद में पिछले दो माह में क्या-क्या हुआ

Doklam Standoff all you need to know what happened in two months

डोकलाम में भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध को अब दो माह पूरे हो चुके हैं। आए दिन चीन की ओर से नए बयान आते हैं और भारत पर मनोवैज्ञानिक दबाव बनाने की कोशिश की जाती है। दोनों के बीच जारी गतिरोध की वजह से ही डोकलाम पर दुनिया का ध्यान दिया। भारत, भूटान और चीन के बीच यह एक ऐसा ट्राइ-जंक्शन है जो तीनों देशों के बीच जून 2017 से विवादित मुद्दा बना हुआ है। एक नजर डालिए पिछले दो माह में डोकलाम के बहाने दोनों देशों के बीच क्या-क्या हुआ और विवाद कितना बढ़ा। 
कभी हमले की धमकी तो कभी जवाब :
  • 16 जून: में डोकलाम भारत और चीन के बीच उस समय तनाव की वजह बन गया जब चीन ने यहां पर सड़क बनाने की कोशिश की। भारत की सेना की ओर से इसका विरोध किया गया। 
  • 18 जून:  को खबर आई कि भारतीय सेनाओं ने चीन और भूटान के बीच स्थित इस सीमा को पार करके वहां पर हो रहे सड़क निर्माण के कार्य को रोकने की कोशिश की। 
  • 19 जून:  भारत ने चीन पर आरोप लगाया कि डोकलाम में सड़क निर्माण के जरिए चीन ने शांति समझौते का उल्लंघन करने की कोशिश की है। 
  • भारत ने सीमा पार करने और सड़क निर्माण पर चीन की आलोचना की। चीन ने भारत पर इसकी सीमा को पार करने का आरोप लगाया। 
  • 20 जून: भूटान के राजदूत ने चीन की ओर से उसके क्षेत्र में हुई घुसपैठ का विरोध दर्ज कराया। 
  • 23 जून: चीन ने कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले भारतीय तीर्थयात्रियों पहले जत्थे को रोक दिया। चीन ने कहा कि इस तीर्थयात्रा की वजह से तिब्बत क्षेत्र में बारिश की वजह से सड़कों को काफी नुकसान पहुंचा है। 
  • 27 जून: चीन के विदेश मंत्री वांग याई का बयान की चीन सन् 1895 के सीमा चित्रण को ही मानता है। 
  • 28 जून: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने सिक्किम का दौरा किया और डोकलाम ट्राइ जंक्शन पर हालातों का जायजा लिया। 
  • 29 जून: चीन ने अपने नक्शे में डोकलाम को अपना क्षेत्र बताया। इसी दिन चीन ने 35 टन के मिलिट्री टैंक को नाथूला बॉर्डर के पास टेस्‍ट किया। 
  • 30 जून: रक्षा मंत्री अरुण जेटली का बड़ा बयान कहा, चीन अब जान ले कि आज का भारत सन् 1962 के भारत से काफी अलग है। चीन ने कहा अरुण जेटली सही कह रहे हैं और आज हालात काफी अलग हैं। चीन भी पहले वाला चीन नहीं है। 
  • 2 जुलाई: चीन ने तिब्बत क्षेत्र में सरकार की ओर से प्रयोजित भारतीय पत्रकारों के दौरे को कैंसिल कर दिया। 
  • 3 जुलाई: चीन ने भारत पर सीमा मुद्दे पर धोखा देने का आरोप लगाया। 
  • 6 जुलाई: चीन ने जी-20 शिखर सम्मेलन में होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग की मीटिंग को यह कहते हुए कैंसिल कर दिया कि बातचीत का माहौल अभी ठीक नहीं है। 
  • 20 जुलाई: चीनी मीडिया ने युद्ध की धमकी दी और कहा कहा 'हिन्दू राष्ट्रवाद' ने पीएम नरेंद्र मोदी की चीन नीति को प्रभावित किया है और इस वजह से दोनों देशों में युद्ध की स्थिति पैदा हो सकती है।
  • 20 जुलाई: विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने संसद के मानसून सत्र के दौरान कहा भारत-चीन के साथ सीमा विवाद का हल बातचीत के जरिये करना चाहता है। लेकिन इसके लिए पहले दोनों देशों को डोकलाम से अपनी सेनाओं को पीछे हटाना होगा। 
  • 21 जुलाई: सुषमा स्वराज के बयान के बाद चीन के सरकारी अखबार 'ग्लोबल टाइम्स' ने उन्हें झूठा करार दिया और कहा कि इस मुद्दे पर सुषमा अपने देशवासियों से झूठ बोल रही हैं। 
  • 27 जुलाई: सिक्किम सेक्टर में गतिरोध के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोवाल ने ब्रिक्स देशों के शीर्ष सुरक्षा अधिकारियों की बैठक से अलग चीनी एनएसए और  स्टेट काउंसलर यांग जेची से बातचीत की।
  • 02 अगस्त: चीनी विदेश मंत्रालय ने 22 मार्च 1959 को जवाहरलाल नेहरू द्वारा चाउ एन लाइ को 1890 एंग्लो-चीनी सम्मेलन में हुये समझौते का समर्थन लिखे पत्र का हवाला देते हुये कहा है, कि डोकलाम पर न तो भूटान का न ही भारत का दावा बनता है। 
  • 8 अगस्त: रक्षा मंत्री जेटली ने एक बार फिर कहा कि भारत की सेनाएं किसी भी तरह के युद्ध के लिए तैयार हैं। 
  • 09 अगस्त: तिब्बती आध्‍यात्मिक गुरू दलाई लामा ने कहा कि भारत और चीन को आस पास ही रहना है, और दोनों देशों के बीच डोकलाम पर गतिरोध 'ज्यादा गंभीर' मुद्दा नहीं है। दलाई लामा ने कहा कि कई बार दोनों देश ;कड़े शब्दों' का प्रयोग करते हैं लेकिन आगे बढ़ने के लिए 'हिन्दी-चीनी भाई-भाई' की भावना एकमात्र रास्ता है।
  • 10 अगस्त: भूटान ने डोकलाम को चीन का हिस्सा मानने वाले चीन के बयान को गलत करार दिया। चीनी विदेश मंत्रालय की ओर से दावा किया गया था कि सिक्किम सेक्टर में पड़ने वाले डोकलाम को भूटान ने चीन का हिस्सा मानने को तैयार हो गया है। 
  • 15 अगस्त: मंगलवार सुबह पेंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर दोनों सेनाओं के बीच टकराव की खबरें और साथ ही घुसपैठ की कोशिश नाकाम होने के बाद चीनी सैनिकों की ओर से  पत्थरबाजी करने का दावा। चीन ने कहा उसे इस घटना की कोई जानकारी नहीं। 
  • 16 अगस्त: चीन और भारत के बीच लद्दाख मुद्दे पर लंबी फ्लैग मीटिंग बिना नतीजे के खत्म। 

No comments